उन्नाव मामला: एक्सीडेंट-हादसा या कुछ और ? साजिश का इशारा करते हैं ये इतने इत्तेफाक

https://khabar.ndtv.com/news/uttar-pradesh/unnao-case-rape-survivors-security-kept-accused-informed-alleges-police-case-2077176?pfrom=home-topstories

उन्नाव रेप मामले की पीड़िता रविवार को एक सड़क दुर्घटना में घायल हो गई थी । इसी हादसे में गाड़ी में सवार पीड़िता की मौसी और चाची को अपनी जान भी गंवानी पड़ी। मामला इतना हाई प्रोफाइल है, इसलिए इस पर कई तरह के सवाल खड़े हो रहे हैं। कुछ राजनीतिक आरोप हैं, कई तरह के सवाल हैं और जिस तरह से हादसा हुआ है उससे कई इत्तेफाक भी जुड़ते नज़र आ रहे हैं।।।जो एक साजिश की तरफ इशारा कर रहे हैं।इस गाड़ी से पीड़िता अपने परिवार और वकील के साथ जेल में बंद चाचा से मिलने रायबरेली जा रही थी। जहां बारिश के बीच रास्ते में एक ट्रक ने कार को टक्कर मारी। सबसे चौंकाने वाली बात ट्रक की नंबर प्लेट को ग्रीस से पोतकर छिपाया गया था।लेकिन जिस वक्त ये हादसा हुआ उस वक्त पीड़िता के साथ कोई भी सुरक्षाकर्मी मौजूद नहीं था और पुलिस यहां भी जांच की बात कहकर अपना पल्ला झाड़ रही है पुलिस ने ट्रक ड्राइवर और उसके मालिक को गिरफ्तार कर लिया है। गाड़ी में मौजूद सभी लोग इस केस में सीबीआई के गवाह थे. दो गवाह ने दम तोड़ दिया, वहीं एक गवाह यानी पीड़िता जिंदगी और मौत के बीच जूझ रही है. मामले में मुख्य गवाह की पहले ही संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो चुकी है ।

पहला इत्तेफाक ट्रक ड्राइवर आशीष पाल और उसके मालिक देवेंद्र पाल दोनों ही फतेहपुर के रहने वाले हैं. बता दें कुलदीप सिंह सेंगर भी मूल रूप से फतेहपुर जिले के रहने वाले हैं । दूसरा इत्तेफाक ट्रक की नंबर प्लेट पर ग्रीस पुती हुई थी । तीसरा इत्तेफाक पीड़िता के साथ कोई सुरक्षाकर्मी नहीं था । चौथा इत्तेफाक गाड़ी में बैठे लोग सीबीआई के गवाह थे । पांचवा इत्तेफाक ट्रक एकदम खाली था ट्रक रॉन्ग साइट से आ रहा था?

इतने सारे इत्तेफाक एक साथ होने से मामले की जाँच बहुत ही गंभीरता से करने की जरुरत है , और उचित कार्यवाही करके पीड़िता को इंसाफ दिलाने की जरुरत है , ज्ञात को इस मांमले में विधायक कुलदीप सिंह सेंगर ( भाजपा ) पहले से सीतापुर जेल में बंद है इसके बावजूद पीड़िता को विधायक के गुर्गो द्वारा धमकी दी जाती रही है , बहरहाल, सड़क हादसे का शिकार हुई उन्नाव की रेप पीड़िता की हालत गंभीर बनी हुई है. लखनऊ के केजीएमसी अस्पताल के डॉक्टरों का कहना है कि एक्सिडेंट के कारण उसके फेफड़ों में चोट लगी है. कुछ समय के लिए पीड़िता को वेंटिलेटर पर रखा गया था. उसका ब्लड प्रेशर गिर रहा है. इसके अलावा पीड़िता के दाहिने कॉलर की हड्डी, दाईं ओर की कुछ पसलियां, दाहिने हाथ और दाहिने पैर में फ्रैक्चर है ।