उत्तर प्रदेश में ट्रैफिक नियम उल्ल्घन करने की इतनी खौफनाक सज़ा की इंसान की रूह काँप जाये

https://khabar.ndtv.com/news/uttar-pradesh/two-cops-suspended-over-beating-a-man-at-siddharth-nagar-in-uttar-pradesh-2100177

केंद्र सरकार ने नया मोटर वीइकल ऐक्ट लागू करके जुर्माना की राशि बढ़ा दी है। नए कानून से बड़े शहरों में जहां ई-चालान काटा जा रहा है वहीं छोटे जिलों में वाहन चेकिंग के नाम पर कई जगह पुलिस की ज्यादतियों की खबर सामने आने लगी हैं। हाल ही में बिहार में एक पुलिस अधिकारी की अभद्रता का विडियो सामने आने के बाद अब यूपी के सिद्धार्थनगर जिले में भी ऐसा ही एक मामला सामने आया है। सिद्धार्थनगर जिले का एक विडियो सोशल साइट्स पर वायरल हुआ है, जिसमें हेल्मेट न लगाने व गाड़ी का कागज ना होने पर एक लड़के को पुलिस सब इंस्पेक्टर व सिपाही लात-घूसों से जिस बेरहमी से पीटते दिख रहे हैं।

जानकारी के अनुसार, सिद्धार्थनगर जिले के खेसरहा थानाक्षेत्र के सकारपार पुलिस चौकी के पास मंगलवार को चौकी प्रभारी देवेंद्र मिश्र व एक तैनात हेड कॉन्स्टेबल वाहन चेकिंग कर रहे थे। इस दौरान अपने भतीजे के साथ सामान लेने गया रिंकू पांडेय नाम का शख्स वहां से गुजरा, जिसे इन पुलिसकर्मियों ने वाहन चेकिंग के नाम पर रोक लिया। रिंकू ने पुलिसकर्मियों को बताया कि वह बगल के ही गांव का है और यहां किसी काम के कारण आया था। इसपर पुलिसकर्मियों ने उसके साथ मारपीट शुरू कर दी। युवक चिल्लाता रहा रहम की भीख मांगता रहा लेकिन पुलिस वालो ने उसकी एक नहीं सुनी और मासूम बच्चे के सामने उसे ऐसे पीटते रहे जैसे उसने कोई संगीन अपराध किया हो पुलिस का इस तरह का चेहरा ना केवल पुलिस की छवि देश में ख़राब करता है विदेशो में भी ख़राब करता है । प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार, पुलिसकर्मियों ने रिंकू को लात-घूसे से पीटा और उसे गालियां भी दी।

वीडियो 10 सितम्बर का है । पुलिस हमारे समाज का सबसे मुख्य अंग है पुलिस के कुछ लोगो का ऐसा बर्ताव करने से पूरी पुलिस बदनाम होती है । क्या पुलिस वालो की लिए कोई ऐसा कानून नहीं बनाना चाहिए की ऐसा करने पर उनकी सेवा समाप्त कर दी जाये हम निलबिंत तो कर देते है लेकिन थोड़े दिन बाद वो बहाल हो जाते है और फिर से उसी चाल में चलने लगते है एक आम आदमी पुलिस के चक्कर में पड़ना नहीं चाहता है इसलिए वो इतना सब सहने क बाद भी मुँह नहीं खोलता है । ऐसे ही कुछ वीडियो कभी वायरल हो जाते है थोड़े समय के लिए हम लोग सोचते भी है की ये गलत है लेकिन क्या कभी हमने बदलाव के लिए सोचा की ये सब कैसे रुक सकता है , ऐसा नहीं है जब कुछ हमारे साथ घटे तभी हम सोचे किसी के साथ घटे हमें उसके साथ खड़े होना चाहिए तभी पुलिस का इस तरह प्रताड़ित करने का अत्याचार रुकेगा । सरकार ने ट्रैफिक नियम पालन नहीं करने वालो का जुर्माना बढ़ाया है रोड पर इस तरह किसी को पीटने का लाइसेंस नहीं दिया है सरकार को भी इस बारे में सोचना चाहिए की भारत जैसे देश में क्या इतनी भरी भरकम जुर्माना राशि लगाना उचित है , बीजेपी शासित राज्य खुद इसके विरोध में होके जुर्माने की राशि कम कर दी है । हमारी सरकारों को भी पुलिस तंत्र के लिए एक ऐसा प्रकोष्ठ बनाना चाहिए जहाँ इस तरह की घटनाये हो उनको फ़ास्ट ट्रक में चला के दोषी पुलिस वालो को सख्त से सख्त सजा देनी चाहिए कमजोर दिल वाले वीडियो नहीं देखे वीडियो में दिखाए गए दृश्य आपके दिल को विचलित कर सकते है । रिपोर्ट न्यूज़ चैनल एंड सोशल मीडिया पर आधारित